- 07 October, 2019

तीन वैज्ञानिकों को चिकित्सा का नोबेल

नई दिल्ली।
इस साल के नोबेल पुरस्कार का ऐलान हो गया है। फिजियोलॉजी या मेडिसिन में खोज के लिए विलियम जी केलिन जूनियर, सर पीटर जे रैटक्लिफ और ग्रेग एल सेमेंजा को संयुक्त रूप से नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। इनको कोशिकाओं के ऑक्सीजन ग्रहण पर किए गए खोज के लिए यह पुरस्कार मिलेगा।
नोबेल पुरस्कार समिति ने मेडिसिन के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार के लिए संयुक्त रूप से 3 नामों का ऐलान करते हुए ट्वीट किया। कोशिकाओं के काम करने के तरीके और ऑक्सीजन उपलब्धता के ग्रहण करने को लेकर किए खोज पर यह सम्मान तीनों वैज्ञानिकों को दिया जाएगा।
नोबेल पुरस्कार पाने के बाद सर पीटर जे रैटक्लिफ ने इस पर खुशी जताई। जिस समय रैटक्लिफ के नाम का ऐलान किया गया उस समय वह ईयू सिनर्जी ग्रैंट अप्लीकेशन पर अपने डेस्क पर काम कर रहे थे। अमेरिकी खोजकर्ता विलियम जी केलिन जूनियर का जन्म 1957 में न्यूयॉर्क में हुआ था। उन्होंने दरहम के ड्यूक यूनिवर्सिटी से एमडी की डिग्री हासिल की। उन्होंने बाल्टीमोर के जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी और बॉस्टन के दाना-फार्बर कैंसर इंस्टीट्यूट, से इंटरनल मेडिसिन और ऑन्कोलॉजी में विशेषज्ञ प्रशिक्षण हासिल की।
सर पीटर जे रैटक्लिफ का जन्म इंग्लैंड के लंकाशायर में 1954 में हुआ था। उन्होंने कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के गोन्विले और साइअस कॉलेज से मेडिसिन की पढ़ाई की। उन्होंने ऑक्सफोर्ड से नेफ्रोलॉजी में ट्रेनिंग भी हासिल की है।
ग्रेग एल सेमेंजा भी न्यूयॉर्क के रहने वाले हैं और उनका जन्म 1956 में हुआ। उन्होंने बॉस्टन में हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से बॉयोलॉजी में बीए की डिग्री हासिल की। सेमेंजा ने पेन्सिवेनिया यूनिवर्सिटी से एमडी/पीएचडी की डिग्री हासिल की है।

-advertisement-

ट्रेंडिंग

खून की नदियां तो छोडि़ए कश्मीर में एक गोली भी नहीं चलानी पड़ी- अमित शाह

करतारपुर गलियारे पर अब पलटा पाकिस्तान

महंत नरेंद्र गिरि दोबारा चुने गए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष

भिखारी की मौत के बाद झोपड़ी से निकले डेढ़ लाख के सिक्के और 8.7 लाख की एफडी

स्विस बैंक ने कालाधन रखने वालों की सूची सौंपी

भारतीय सेना का था खबरी, अब बना जैश का खूंखार आतंकवादी

ट्रंप के सामने PM मोदी ने पाकिस्तान पर किया अटैक

मप्र की राजनीति के जोकर हैं दिग्विजय : शिवराज

मुर्गी से नहीं पौधों से बने अंडे खाइए, टेस्ट में भी लाजावाब

कैब ड्राइवर ने नहीं रखा था कंडोम, ट्रैफिक पुलिस ने काट दिया भारी-भरकम चालान

भोपाल सहित 4 शहरों में अब इलेक्ट्रिक बसें चलेंगी

अमेरिकन आर्मी ने बजाई भारतीय राष्ट्रगान 'जन गण मन' की धुन

अब चंद्रयान-2 की 98 फीसदी सफलता पर उठने लगे सवाल