Powered By डॉ.राहुल रंजन
भोपाल

बब्बर शेर की दहाड़ से गुजेंगा प्रदेश

भोपाल। पालनपुर कूनो में गिर के बब्बर शेरों को लाने का 90 फीसदी काम पूरा हो चुका है, सिर्फ प्रक्रिया बाकी है। अब तो इस बात पर चर्चा हो रही है कि उन्हें मप्र में कैसे लाया जाए, 4-5 दिन में यह भी तय हो जाएगा। ये जानकारी केंद्रीय पर्यावरण एवं वन राज्यमंत्री अनिल माधव दवे ने दी।

वह शनिवार को राजधानी में पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। इस मुद्दे पर हुए सवालों पर उन्होंने स्पष्ट किया कि मेरा लक्ष्य है कि शेर मध्यप्रदेश लाया जाना चाहिए, श्रेय किसी को भी मिले। मैं इस पर लगातार काम कर रहा हूं। उन्होंने ये भी कहा कि अब तो सिर्फ पूंछ ही बची है। एक-दो बैठकों के बाद इसका भी समाधान हो जाएगा। मप्र में शेरों को बसाने की सभी अर्हताएं पूरी हो चुकी हैं।

टाइगर स्टेट और देश में बाघों की स्थिति पर वन राज्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि दुनिया के 60 फीसदी बाघ अपने यहां (भारत) हैं और उनकी स्थिति बहुत अच्छी है। बाघों की संख्या में भी अच्छी-खासी बढ़ोतरी हो रही है। उन्होंने उद्योगों से फैल रहे प्रदूषण, अवैध खनन, फॉरेस्ट के कानून और केन-बेतवा परियोजना से जुड़े मुद्दों पर भी चर्चा की।

Share |