Powered By डॉ.राहुल रंजन
देश

नोटबंदी पर संसद के दोनों सदनों में हंगामा जारी, कांग्रेस का स्‍थगन प्रस्‍ताव

नई दिल्‍ली : संसद में गुरुवार को भी गतिरोध बना रहा। लोकसभा की कार्यवाही आज शुरू होते ही विपक्षी सांसदों ने नोटबंदी व अन्‍य मुद्दों पर हंगामा किया। वहीं, राज्‍यसभा में विपक्ष ने हंगामा किया। शीतकालीन सत्र के अब केवल दो दिन बचे हैं। संसद में बुधवार को भी गतिरोध कायम रहा तथा लोकसभा में नोटबंदी के मुद्दे पर और राज्यसभा में एक केन्द्रीय मंत्री पर कांग्रेस के आरोपों को लेकर विपक्ष और सत्ता पक्ष ने भारी हंगामा किया। 

लोकसभा की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्‍थगित।

-लोकसभा की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी दलों ने हंगामा शुरू कर दिया।

-विपक्ष यह शिकायत करने के लिए शुक्रवार को राष्ट्रपति से मुलाकात करना चाहता है कि सत्तापक्ष संसद में ‘उन्हें नहीं बोलने दे रहा है।’

 

-कांग्रेस लोकसभा और राज्यसभा दोनों में नोटबंदी से हो रही लोगों की समस्या उठाएगी, स्थगन प्रस्ताव प्रस्ताव पेश किया।

-किरण रिजिजू पर लगे आरोपों पर वैंकेया नायडू ने कहा कि कांग्रेस पहले ऑगस्‍टा पर जवाब दे।  

-बीजेपी ने कहा कि अरुणाचल का जवाब ऑगस्‍टा से देंगे।

-सरकार राहुल गांधी से घबराई हुई है: मल्लिकार्जुन खड़गे।

-विपक्ष आज संसद में अरुणाचल स्‍कैम का मुद्दा उठाएगी।

-बीजेपी अब कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी को घेरने की तैयारी कर रही है।

-नोटबंदी को लेकर संसद परिसर में टीएमएसी सांसदों ने प्रदर्शन किया।

-लगता नहीं है कि आज संसद चल पाएगी: सपा नेता नरेश अग्रवाल।

बता दें कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को यह सनसनीखेज दावा किया कि उनके पास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के व्यक्तिगत भ्रष्टाचार के बारे में जानकारी है, वहीं दूसरे विपक्षी नेताओं ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नोटबंदी पर संसद में चर्चा से भाग रहे हैं और संसदीय प्रणाली खतरे में है। दूसरी ओर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘निजी भ्रष्टाचार’ के बारे में सूचना होने के राहुल गांधी के सनसनीखेज आरोप से हैरान सरकार के शीर्ष मंत्रियों ने इस आरोप को ‘झूठा और आधारहीन’ करार देकर खारिज कर दिया और जोर देकर कहा कि इससे बड़ा ‘झूठ’ नहीं हो सकता। वरिष्ठ मंत्रियों मनोहर पर्रिकर, अनंत कुमार, रविशंकर प्रसाद और प्रकाश जावड़ेकर ने कांग्रेस उपाध्यक्ष पर पलटवार करते हुए इस आरोप को उनकी ‘निराशा और हताशा’ का परिणाम बताया तथा उनसे माफी की मांग की।

 

संसद में बुधवार को भी गतिरोध कायम रहा तथा लोकसभा में नोटबंदी के मुद्दे पर और राज्यसभा में एक केन्द्रीय मंत्री पर कांग्रेस के आरोपों को लेकर विपक्ष और सत्ता पक्ष ने भारी हंगामा किया। हंगामे के कारण दोनों सदनों की बैठक एक-एक बार के स्थगन के बाद पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गयी। चार दिनों के अवकाश के बाद कल संसद की बैठक फिर शुरू होने पर उम्मीद थी कि शीतकालीन सत्र के अंतिम तीन दिनों में दोनों सदनों में सुचारू रूप से कामकाज होगा। किन्तु उच्च सदन में सत्ता पक्ष एवं विपक्ष की सहमति के कारण संक्षिप्त चर्चा के बाद निशक्त व्यक्तियों से संबंधित एक विधेयक को पारित करने के अलावा दोनों सदनों में कुछ विशेष कामकाज नहीं हो सका।

लोकसभा में विपक्ष ने जहां कहा कि वह नोटबंदी सहित किसी भी मुद्दे पर सदन में चर्चा को तैयार है तो वहीं सरकार ने कहा कि विपक्ष प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा गरीबों के फायदे के लिए उठाए गए कदमों में रोड़ा अटका रहा है। सदन में विपक्षी सदस्य कई बार आसन के समक्ष आकर नारेबाजी करते हुए आये। शुरू में विपक्षी सदस्य आसन से कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को अपनी बात रखने की अनुमति देने की मांग कर रहे थे। हंगामे के बीच खड़गे यह कहते हुए सुने गए कि विपक्ष नोटबंदी समेत किसी भी मुद्दे पर सदन में चर्चा के लिए तैयार है। सदन में मौजूद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी भी आवेशित मुद्रा में खड़गे को कुछ कहती नजर आयीं।

Share |