Powered By डॉ.राहुल रंजन
विदेश

व्हाइट हाउस ने कहा- ट्रम्प जानते थे US इलेक्शन में साइबर अटैक के पीछे था रूस का हाथ

वॉशिंगटन. व्हाइट हाउस ने आरोप लगाया कि डोनाल्ड ट्रम्प जानते थे कि अमेरिकी इलेक्शन के दौरान साइबर अटैक के पीछे रूस का हाथ है। बराक ओबामा ने कहा कि US इलेक्शन में रूस की हैकिंग का अमेरिका जवाब देगा। WH ने कहा, "ट्रम्प इस बात से वाकिफ थे कि साइबर अटैक से उन्हें इलेक्शन में फायदा पहुंच रहा है और उनकी विरोधी हिलेरी क्लिंटन को नुकसान।" ट्रम्प की जीत को अवैध ठहराना मकसद नहीं- व्हाइट हाउस
 
 
- WH प्रेस सेक्रेटरी जोश अर्नेस्ट ने कहा, "मैंने प्रेसिडेंट-इलेक्ट ट्रम्प की टीम में लोगों को ये कहते हुए सुना है कि ट्रम्प की जीत को अवैध करार देने की कोशिशें की जा रही हैं।"
- हालांकि, उन्होंने ये बात भी तुरंत कही कि वो ट्रम्प की जीत को अवैध नहीं ठहराना चाहते हैं।
- उन्होंने कहा, "ट्रम्प अकेले इंसान नहीं थे, जो इस बात को जानते थे। इस बात की बड़े पैमाने पर रिपोर्टिंग हो रही थी और हर उस आदमी के सामने इसका प्रमाण था जो न्यूजपेपर पढ़ता है।"
- अर्नेस्ट ने कहा, "ये बात कहना मुश्किल है कि ट्रम्प का सोर्स कौन है। हो सकता है कि ट्रम्प न्यूज रिपोर्टर या कैपिटॉल हिल में किसी पर भरोसा कर रहे हों, जिसे मामले की जानकारी हो और उसने ट्रम्प या उनकी टीम को इस बारे में बताया हो।"
- "हो सकता है, उन्होंने अपने सबसे करीबी सहयोगी रोजर स्टोन से इस बारे में बात की हो, जिन्होंने जुलाई में ट्वीट किया था कि निश्चित रूप से हिलेरी क्लिंटन के ई-मेल रशियन्स ने हैक किए।"
- अर्नेस्ट ने कहा, "ट्रम्प रूस की इस दुर्भावना से भरी साइबर हैकिंग के बारे में जानते थे। वो ये भी जानते थे कि इससे उन्हें फायदा हो रहा है और हिलेरी क्लिंटन के इलेक्शन कैम्पेन को नुकसान।"
 
ओबामा ने दिए जांच के आदेश
- प्रेसिडेंट बराक ओबामा ने ये साफ कर दिया है कि ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन के साथ वो स्मूथ ट्रांजिशन चाहते हैं। ओबामा एडमिनिस्ट्रेशन ने हर कदम पर इस बात का सबूत दिया है और इसका भी कि वो अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए कितना संजीदा है।
- बराक ओबामा ने यूएस इलेक्शन के दौरान हुई हैकिंग की जांच के आदेश दिए हैं।
- अर्नेस्ट ने कहा, "ओबामा इस बात को लेकर संजीदा हैं कि जब हमारी इंटेलिजेंस किसी नतीजे पर पहुंचे तो इसका जवाब भी दिया जाए। हालांकि, मैं अभी ये नहीं कह सकता हूं कि आगे इस पर किस तरह का रिस्पॉन्स दिया जाएगा।"
- "अच्छी बात ये है कि इंटेलिजेंस कम्युनिटी ने कहा कि इलेक्शन डे के दौरान रूस की साइबर एक्टिविटी में ऐसी कोई बढ़ोत्तरी देखने को नहीं मिली जो वोट डालने या उनकी काउंटिंग को प्रभावित करे।"
 
हिलेरी को दी थी रिकाउंट की सलाह
- इलेक्शन लॉयर्स और डाटा एक्सपर्ट के एक ग्रुप ने प्रेसिडेंशियल इलेक्शन में साइबर हैकिंग का शक जताते हुए हिलेरी क्लिंटन को 3 स्टेट्स में रिकाउंटटिंग की सलाह दी थी। 
- ये स्टेट्स थे विस्कॉन्सिन, मिशिगन और पेन्सिलवेनिया। कहा जा रहा था कि साइबर हैकिंग के चलते वोट के टोटल में हेर-फेर हो सकता है। 
- चौंकाने वाली बात ये है कि इन तीनों ही स्टेट्स पर डेमोक्रेटिक पार्टी को काफी भरोसा था, क्योंकि पिछले कुछ चुनावों में यहां उनके कैंडिडेट्स जीते थे।
Share |