Powered By डॉ.राहुल रंजन
देश

दिल्ली में प्रदूषण का स्तर गंभीर - सीएसई

नई दिल्ली : अक्तूबर के बाद से शहर में वायु प्रदूषण में ‘सात गुना वृद्धि’ हुई है। सेंटर फोर साइंस एंड एन्वायरनमेंट के एक विशेषज्ञ ने यह जानकारी दी। शहर में अलग अलग जगहों पर लगे निगरानी केंद्रों में सूचकांक पर्टिकुलेट मैटर 2.5 और 10 से उपर ‘गंभीर’ स्तर पर है। शहर की परिवेशी वायु गुणवत्ता भी ‘बहुत खराब’ है और यह स्थिति बच्चों एवं वृद्धों जैसे संवेदनशील समूहों के लिए बेहद खतरनाक है। विशेषज्ञों ने कहा कि हवा में मौजूद इसी तरह के सूक्ष्म प्रदूषकों की महीन मात्रा से बीजिंग में अधिकारी बाहरी गतिविधियों पर रोक लगाने, कारखाने बंद रखने और वाहनों की आवाजाही के विनियमन के लिए परामर्श जारी करने के लिए मजबूर हुए हैं। दिल्ली की हवा में इसी तरह के सूक्ष्म प्रदूषण मौजूद हैं।
आनंद विहार में प्रदूषक लगातार सुरक्षित स्तरों से उपर बने हुए हैं। दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड :डीपीसीसी: इलाके में 348 और 808 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर पर यह स्तर पीएम 2.5 और पीएम 10 है। पंजाबी बाग में पीएम 2.5 397 और पीएम 10 634 दर्ज किया गया। समरूपी सुरक्षित स्तर 60 और 100 है। उससे ज्यादा स्तर श्वसन तंत्र के लिए नुकसानदेह हो सकता है क्योंकि प्रदूषण कण फेफड़े के भीतर बैठ जाते हैं। सीएसई की अनुमिता रॉय चौधरी ने कहा, ‘‘एक अक्तूबर से प्रदूषण के स्तर में सात गुना वृद्धि हुई है। ठंड में प्रदूषण की स्थिति बहुत गंभीर होने जा रही है। लोगों से अपनी बाहरी गतिविधियों को कम करने की सलाह जारी करने की जरूरत है।’’

Share |